e-TDS

e-TDS / Preparation of e-TDS

Return Preparation Utility (RPU) version 2.8 is to be used for preparation of e-TDS/TCS regular and correction statements pertains to Financial Year 2007-08 onwards.

To download the RPU, please visit the link https://www.tin-nsdl.com/downloads/e-tds/eTDS-download-regular.htmlL

  • FVU version 6.3 is to be used to validate e-TDS/TCS statements pertaining to FY 2010-11 onwards.
  • FVU version 2.159 is to be used to validate e-TDS/TCS statements pertaining up-to FY 2009-10
  • To download the FVU please visit the URL https://www.tin-nsdl.com/downloads/e-tds/eTDS-download-regular.html

    e-TDS/TCS return has to be prepared in the data format issued by e-Filing Administrator. This is available on the Income Tax Department website (www.incometaxindia.gov.in) and NSDL e-Gov-TIN website (www.tin-nsdl.com). There is a validation software (File Validation Utility) available along with the data structure which should be used to validate the data structure of the e-TDS/TCS return prepared. The e-TDS/TCS return should have following features:

    • e-TDS/TCS return file should be furnished in a CD/Pen Drive. It should not span across multiple computer media.
    • Each e-TDS/TCS return file should be accompanied by a duly filled and signed (by an authorised signatory) Form No. 27A in physical form. With effect from February 1, 2014, it is mandatory to submit Form 27A generated by TDS/TCS FVU (File Validation Utility).
    • If an e-TDS return file is required to be compressed, it should be compressed using Winzip 8.1 or ZipItFast 3.0 compression utility (or higher version thereof) to ensure quick and smooth acceptance of the file.
    • There should not be any overwriting/striking on Form No. 27A.
    • No bank challan or copy of TDS/TCS certificate should be filed along with e-TDS/TCS return file
    • CD/Pen Drive should be virus-free.

    In case any of these requirements are not met, the e-TDS/TCS return will not be accepted at TIN-FCs.

    NSDL e-Gov has made available a freely downloadable Return Preparation Utility for preparation of e-TDS/TCS statements. Additionally, you can develop your own software for this purpose or you may acquire software from various third party vendors. A list of vendors, who have informed NSDL e-Gov that they have developed software for preparing e-TDS/TCS statements, is available on the NSDL e-Gov -TIN website i.e. www.tin-nsdl.com.

    Forms for filing TDS/TCS returns were notified by CBDT. These forms are same for electronic and physical returns. However, e-TDS/TCS return is to be prepared as a clean text ASCII file in accordance with the specified data structure (file format) prescribed by ITD.

    Following are the forms for TDS/TCS returns and their periodicity:

    Form No. Particulars Periodicity
    Form No.24Q Quarterly statement for tax deducted at source from 'Salaries' Quarterly
    Form No.26Q Quarterly statement of tax deducted at source in respect of all payments other than 'Salaries' Quarterly
    Form No.27Q Quarterly statement of deduction of tax from interest, dividend or any other sum payable to non-residents Quarterly
    Form No.27EQ Quarterly statement of collection of tax at source Quarterly

    Form No. 27A is a control chart of quarterly e-TDS/TCS statements to be filed in paper form by deductors/collectors alongwith quarterly statements. It is a summary of e-TDS/TCS returns which contains control totals of 'amount paid' and 'income tax deducted at source'. The control totals of 'amount paid' and 'income tax deducted at source' mentioned on Form No. 27A should match with the corresponding control totals in e-TDS/TCS return. A separate Form No. 27A is to be filed for each e-TDS/TCS return.

    While submitting Form No. 27A, one should ensure that:

    1. Form 27A is generated by TDS/TCS FVU (File Validation Utility). (With effect from February 1, 2014).
    2. There is no overwriting/striking on Form No. 27A. If there is any, Please make necessary changes in the file, validate and generate new Form 27A from File Validation Utility (FVU).
    3. Name and TAN of deductor and control totals of 'amount paid' and 'income tax deducted at source' mentioned on Form No. 27A should match with the respective totals in the e-TDS/TCS return.
    4. All the fields of Form No. 27A are duly filled. The Form 27A needs to be signed by the responsible person.

    e-TDS/TCS return should be prepared in accordance with the data structure (File Format) prescribed by the e-filing administrator.

    Bank Challan Number is a receipt number given by the bank branch where TDS is deposited. A separate receipt number is given for each challan deposited. You are required to mention this challan number in the e-TDS/TCS return.

    Reserve Bank of India has allotted a unique seven-digit code to each bank branch.You are required to mention the code of the bank branch where TDS is deposited in the e-TDS/TCS return. You can get this code from the bank branch where TDS amount is deposited.

    No. A single Form No. 26Q with separate annexures corresponding to each challan payment for each type of payment has to be filed for all payments made to residents.

    Bank Branch code or BSR code is a 7-digit code allotted to banks by RBI. This is different from the branch code, which is used for bank drafts etc. This number is given in the OLTAS challan or can be obtained from the bank branch or from the search facility at NSDL e-Gov-TIN website. It is mandatory to quote BSR code both in challan details and deductee details. Hence, this field cannot be left blank.

    If payment to the parties (on which TDS has been deducted) has been made actually i.e. by cash, cheque, demand draft or any other acceptable mode, then 'otherwise' has to be mentioned in the specified field. But if payment has not been actually made and merely a provision has been made on the last date of the accounting year, then the option 'Paid by Book Entry' has to be selected.

    Form 27A is the summary of the TDS/TCS statement. It has to be signed by the respective authorized person who is designated to sign the same.

    Yes. Challan Identification Number is necessary for all non-Government deductors.

    PAN of the deductors has to be given by non-Government deductors. It is essential to quote PAN of all deductees.

    If you have more than one office/branch you can file a consolidated e-TDS/TCS return for all offices/branches. In this case you should quote the same TAN. You can also file e-TDS/TCS returns office/branch-wise individually. In such cases you need to have separate TAN for every branch. In case you do not have separate TAN for each branch then you should apply for TAN for each of the branches filing separate e-TDS/TCS return.

    No, you need not file certificates for no deduction or concessional deduction of TDS alongwith the e-TDS/TCS return. This is not required in case of any quarterly statements.

    Deductor is required to select any of the below values under PAN field (in case of non-availability of PAN) and file your statement.

    1. Payment made to Government organization (Central/State only): This is applicable when landlords are Government organizations (i.e. Central or State).
    2. Payment made to Non-resident: This is applicable when the landlords are Non-Residents.
    3. Payment made to Other than Government organization and Non-resident: This is applicable when the landlords are other than Government organization and Non-Residents.

    The newly added fields (i.e. Email ID of deductee, Contact Number of the deductee, Address of deductee in country of residence & Tax identification number / Unique identification number) will be mandatory only when below conditions are satisfied.

    • if rate of deduction is less than 20%
    • remark value as 'C'
    • PAN of the deductee is not available (i.e. 'PANNOTAVBL', 'PANAPPLIED' or 'PANINVALID').
    • Value under field no. 36 (i.e. Nature of remittances) is Interest payment, Royalty, Fees for technical services/ fees for included services, short term capital gains or Long term capital gains.

    ई-टीडीएस/ई-टीडीएस के तैयारी



    रिटर्न प्रिपरेशन यूटिलिटी (आरपीयू) संस्करण २.८ का उपयोग वित्तीय वर्ष २००७-०८ के ई-टीडीएस / टीसीएस को नियमित और विवरण में संशोधन करने के लिए किया जाता है।

    आरपीयू डाउनलोड करने के लिए, कृपया लिंक पर जाएं। https://www.tin-nsdl.com/downloads/e-tds/eTDS-download-regular.html

  • एफवीयू संस्करण ६.३ का उपयोग वित्त वर्ष २०१०-११ से आगे के ई-टीडीएस / टीसीएस विवरणों को मान्य करने के लिए किया जाना है।
  • एफवीयू संस्करण २.१५९ का उपयोगन वित्त वर्ष २००९-१० से संबंधित ई-टीडीएस / टीसीएस विवरणों को मान्य करने के लिए किया जाना है।
  • एफवीयू डाउनलोड करने के लिए कृपया लिंक पर जाएं। https://www.tin-nsdl.com/downloads/e-tds/eTDS-download-regular.html

    ई-फाइलिंग प्रशासक द्वारा जारी किए गए डेटा प्रारूप में ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न तैयार किया जाना है। यह आयकर विभाग की वेबसाइट (www.incometaxindia.gov.in) और एनएसडीएल ई-गॉव-टिन वेबसाइट (www.tin-nsdl.com) पर उपलब्ध है। डेटा संरचना के साथ एक सत्यापन सॉफ्टवेयर (फ़ाइल सत्यापन उपयोगिता) उपलब्ध है जिसका उपयोग तैयार किए गए ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न की डेटा संरचना को मान्य करने के लिए किया जाना चाहिए। ई-टीडीएस /

    टीसीएस रिटर्न में निम्नलिखित विशेषताएं होनी चाहिए:

  • ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न फाइल को सीडी / पेन ड्राइव में रखा जाना चाहिए। यह एक से अधिक कंप्यूटर मीडिया में नहीं होना चाहिए
  • प्रत्येक ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न फाइल को भौतिक रूप में विधिवत भरा और हस्ताक्षरित (अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता द्वारा) फॉर्म नंबर २७ए के साथ होना चाहिए।
  • यदि ई- टीडीएस रिटर्न फाइल को कम्प्रेस करने की आवश्यकता होती है और फाइल को जल्द एवं बेहतर रूप से स्वीकृत करने के लिए इसे विनज़िप ८.१ या ज़िपइटफ़ास्ट ३.० कम्प्रेशन यूटिलिटी (या उससे भी उच्च संस्करण) का उपयोग कर कम्प्रेस किया जाना चाहिए।
  • फॉर्म नंबर २७ए पर कोई भी अधिलेखन/ चित्तग्राही नहीं होनी चाहिए।
  • ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न फाइल के साथ कोई बैंक चालान या टीडीएस / टीसीएस प्रमाण पत्र की प्रति दर्ज नहीं की जानी चाहिए।
  • सीडी/पेन ड्राइव वायरस-मुक्त होने चाहिए।
  • यदि इनमें से कोई भी आवश्यकता पूरी नहीं होती है, तो टिन-एफसी पर ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न स्वीकार नहीं किया जाएगा।

    एनएसडीएल ई-गव ने ई-टीडीएस / टीसीएस स्टेटमेंट तैयार करने के लिए मुफ्त डाउनलोड करने योग्य रिटर्न प्रिपरेशन यूटिलिटी की सुविधा उपलब्ध कराई है। इसके अतिरिक्त, आप इस उद्देश्य के लिए अपना स्वयं का सॉफ़्टवेयर बना सकते हैं या आप विभिन्न तृतीय पक्ष विक्रेताओं से सॉफ़्टवेयर प्राप्त कर सकते हैं। विक्रेताओं की एक सूची, जिन्होंने एनएसडीएल ई-गॉव को सूचित किया है कि उन्होंने ई-टीडीएस / टीसीएस स्टेटमेंट तैयार करने के लिए सॉफ्टवेयर विकसित किया है, एनएसडीएल ई-गवर्नेंस-टीआईएन वेबसाइट यानी www.tin-nsdl.2q पर उपलब्ध है।

    टीडीएस/ टीसीएस रिटर्न दर्ज करने के लिए प्रपत्र सीबीडीटी द्वारा अधिसूचित किए गए थे। ये फॉर्म इलेक्ट्रॉनिक और भौतिक रिटर्न के लिए एक समान ही हैं। हालाँकि, आईटीडी द्वारा निर्धारित निर्दिष्ट डेटा संरचना (फ़ाइल प्रारूप) के अनुसार एक क्लीन टेक्स्ट एएससीआईआई फ़ाइल के रूप में ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न तैयार किया जाना है।

    टीडीएस / टीसीएस रिटर्न और उनकी आवधिकता के लिए फॉर्म निम्नलिखित हैं:

    फॉर्म संख्या विवरण आवधिकता
    फॉर्म संख्या २४क्यू 'वेतन' से स्रोत पर घटाए गए कर के लिए त्रैमासिक विवरण तिमाही
    फॉर्म संख्या २६क्यू 'वेतन' के अलावा अन्य सभी भुगतानों के संबंध में स्रोत पर कर कटौती का त्रैमासिक विवरण तिमाही
    फॉर्म संख्या २७क्यू गैर-निवासियों के लिए देय ब्याज, लाभांश या किसी अन्य राशि से कर की कटौती का त्रैमासिक विवरण तिमाही
    फॉर्म संख्या २७ ईक्यू स्रोत पर कर संग्रह का त्रैमासिक विवरण तिमाही

    फॉर्म नंबर २७ए तिमाही ई-टीडीएस / टीसीएस स्टेटमेंट्स का एक नियंत्रण चार्ट है जो तिमाही स्टेटमेंट के साथ कटौतीकर्ताओं / कलेक्टरों द्वारा कागजी रूप में दर्ज किया जाता है। यह ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न का सारांश है जिसमें कुल ‘भुगतान की गई राशि’ और ‘कर स्रोत पर आयकर कटौती’ के नियंत्रण योग होता है। फॉर्म संख्या २७ए पर उल्लिखित 'राशि का भुगतान' और 'आयकर का स्रोत पर घटाया गया आयकर' का नियंत्रण ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न में संबंधित नियंत्रण के योग के साथ मेल खाना चाहिए। प्रत्येक ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न के लिए एक अलग फॉर्म नंबर २७ए दर्ज किया जाना है।

    फॉर्म नंबर २७ए जमा करते समय, सभी को यह सुनिश्चित करना चाहिए:

  • फॉर्म २७ए टीडीएस/टीसीएस एफवीयू (फाइल सत्यापन यूटिलिटी) द्वारा जारी किया जाता है। (१ फरवरी, २०१४ से प्रभावी)।
  • फ्रॉम नंबर २७ए पर कोई अधिलेखन/चित्तग्राही नहीं होनी चाहिए। यदि कोई है, तो कृपया फ़ाइल में आवश्यक संशोधन करें, फ़ाइल सत्यापन उपयोगिता (एफवीयू) से नए फॉर्म २७ए को सत्यापित करें और जारी करें।
  • फॉर्म नंबर २७ए पर उल्लिखित 'राशि का भुगतान' और 'आयकर का भुगतान स्रोत' और 'आयकर का स्रोत पर घटाया गया' का नाम और टैन, संबंधित टीडीएस / टीसीएस रिटर्न के कुल योग के साथ मेल खाना चाहिए।
  • फॉर्म नंबर २७ए के सभी क्षेत्र विधिवत रुप से भरे जाने चाहिए। फॉर्म २७ए को जिम्मेदार व्यक्ति द्वारा हस्ताक्षरित किया जाना चाहिए।
  • ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न ई-फाइलिंग प्रशासक द्वारा निर्धारित डेटा संरचना (फाइल फॉर्मेट) के अनुसार तैयार किया जाना चाहिए।

    बैंक चालान नंबर बैंक शाखा द्वारा दी गई एक रसीद संख्या है जिसमें टीडीएस जमा किया जाता है। जमा किए गए प्रत्येक चालान के लिए एक अलग रसीद संख्या दी जाती है। ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न में आपको इस चालान नंबर का उल्लेख करना आवश्यक है।

    बभारतीय रिज़र्व बैंक ने प्रत्येक बैंक शाखा को एक अनोखा सात अंकों का कोड आवंटित किया है। आपको उस बैंक शाखा के कोड का उल्लेख करना आवश्यक है, जहां ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न में टीडीएस जमा किया जाता है। यह कोड आप उस बैंक शाखा से प्राप्त कर सकते हैं जहाँ टीडीएस की राशि जमा की जाती है।

    नहीं. निवासियों को किए गए प्रत्येक प्रकार भुगतान के लिए प्रत्येक चालान भुगतान के लिए अलग-अलग अनुलग्नकों के साथ एक ही फॉर्म नंबर २६क्यू दर्ज करना होगा।

    बैंक शाखा कोड या बीएसआर कोड आरबीआई द्वारा बैंकों को आवंटित ७ अंकों का कोड है। यह शाखा कोड से अलग है, जिसका उपयोग बैंक ड्राफ्ट आदि के लिए किया जाता है। यह नंबर ओल्टास चालान में दिया गया होता है या बैंक शाखा से या एनएसडीएल ई-गवर्नेंस -टिन वेबसाइट पर खोज सुविधा द्वारा प्राप्त किया जा सकता है। बीएसआर कोड का चालान विवरण और डिडक्टी विवरण का उल्लेख करना अनिवार्य है। अथार्त, इस स्थान को खाली नहीं छोड़ा जा सकता।

    यदि पार्टियों को भुगतान (जिस पर टीडीएस काट लिया गया है) नकद, चेक, डिमांड ड्राफ्ट या किसी अन्य स्वीकार्य मोड द्वारा किया गया है, तो निर्दिष्ट क्षेत्र में 'अन्यथा' का उल्लेख करना होगा। लेकिन अगर भुगतान वास्तव में नहीं किया गया है और केवल लेखा वर्ष की अंतिम तिथि पर प्रावधान किया गया है, तो 'पेड बाय बुक एंट्री’ विकल्प का चयन करना होगा।

    फॉर्म २७ए टीडीएस/टीसीएस स्टेटमेंट का सारांश है। इसे संबंधित प्राधिकृत व्यक्ति द्वारा हस्ताक्षरित किया जाना चाहिए जो उसी पर हस्ताक्षर करने के लिए नामित है।

    हाँ, सभी गैर-सरकारी कटौतीकर्ताओं के लिए चालान पहचान संख्या आवश्यक है।

    कटौतीकर्ताओं का पैन गैर-सरकारी कटौतीकर्ताओं द्वारा दिया जाना चाहिए। सभी कटौतीकर्ताओं के पैन को उल्लेख करना आवश्यक है।

    यदि आपके पास एक से अधिक कार्यालय / शाखा है तो आप सभी कार्यालयों / शाखाओं के लिए समेकित ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न दर्ज कर सकते हैं। ऐसे मामलों में आपको एक ही टैन का उल्लेख करना होगा। आप व्यक्तिगत रूप से ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न कार्यालय / शाखा के अनुसार भी दर्ज कर सकते हैं। ऐसे मामलों में आपके पास हर शाखा के लिए अलग टैन होना चाहिए। यदि आपके पास हर शाखा के लिए अलग टैन नहीं है, तो आपको अलग-अलग ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न दर्ज करने वाली प्रत्येक शाखा के लिए टैन के लिए आवेदन करना चाहिए।

    नहीं, आपको ई-टीडीएस / टीसीएस रिटर्न के साथ टीडीएस की कटौती या रियायती कटौती के लिए प्रमाण पत्र दर्ज करने की आवश्यकता नहीं है। किसी भी तिमाही विवरण के मामले में यह आवश्यक नहीं है।

    कटौतीकर्ताओं को पैन के स्थान (पैन की अनुपलब्धता के मामले में) पर नीचे दिए गए किसी भी मूल्य का चयन करना और स्टेटमेंट दर्ज करना आवश्यक है।

    १. सरकारी संगठन (केवल केंद्रीय / राज्य) को किया गया भुगतान: यह तब लागू होता है जब मकान मालिक सरकारी संगठन (यानी केंद्रीय या राज्य) होते हैं।

    २. अनिवासी को किया गया भुगतान: यह तब लागू होता है जब मकान मालिक अनिवासी होते हैं।

    ३. सरकारी संगठन और अनिवासी के अलावा अन्य को किया गया भुगतान: यह तब लागू होता है जब मकान मालिक सरकारी संगठन और गैर-निवासियों के अलावा होते हैं।

    नए जोड़े गए स्थान (अथार्त डीडक्टी का ईमेल आईडी, डीडक्टी का संपर्क क्रमांक, निवासी देश में डीडक्टी का पता और कर पहचान संख्या/ यूनिक आइडेंटिफिकेशन नंबर) केवल तभी अनिवार्य होंगे जब नीचे दी गयी शर्तें पूरी की जाएं।

  • यदि कटौती की दर २०% से कम है।
  • मूल्य को ‘सी’ के रूप में रिमार्क दें।
  • कटौतीकर्ता का पैन उपलब्ध नहीं है (यानी 'PANNOTAVBL', 'PANAPPLIED' या 'PANINVALID')।
  • क्षेत्र संख्या ३६ (यानी प्रेषणों की प्रकृति) के अंतर्गत भरा गया मूल्य ब्याज का भुगतान, रॉयल्टी, तकनीकी सेवाओं के लिए शुल्क/ अल्पकालिक पूंजीगत लाभ या दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ के लिए सेवाओं सहित शुल्क होता है।